Search Bar

{BEST} Jaun Elia Shayari | जौन एलिया शायरी

Jaun Elia Shayari | जौन एलिया शायरी 

नमस्कार दोस्तों  आपका स्वागत हे, आज हम आपके साथ Jaun elia shayari शेयर करने वाले हे और आशा करूँगा की आपको ये jaun elia sher जरूर पसंद आएंगे....


चलिए तो देखते हे "Jaun elia sher shayari "





अपने सब यार काम कर रहे हैं

और हम हैं कि नाम कर रहे हैं


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी
 John Elia Shayari

Ghazal of jagjit Singh



अब तो हर बात याद रहती है

ग़ालिबन मैं किसी को भूल गया



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी

है याद पर मदार मेरे कारोबार का 
है अर्ज़ आप मुझ को बहुत याद आइए 


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी

Ghazal in Hindi
बस फ़ाइलों का बोझ उठाया करें जनाब 
मिस्रा ये -जौन- का है इसे मत उठाइए 


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी


अब मेरी कोई ज़िंदगी ही नहीं

अब भी तुम मेरी ज़िंदगी हो क्या



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी

Hindi Shayari By Famous Shayars


इलाज ये है कि मजबूर कर दिया जाऊँ

वगरना यूँ तो किसी की नहीं सुनी मैंने


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी


जो हालतों का दौर था वो तो गुज़र गया 

दिल को जला चुके हैं सो अब घर जलाइए 



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी



अब क्या फ़रेब दीजिए और किस को दीजिए 

अब क्या फ़रेब खाइए और किस से खाइए 



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी


उस गली ने ये सुन के सब्र किया

जाने वाले यहाँ के थे ही नहीं



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी




एक ही तो हवस रही है हमें

अपनी हालत तबाह की जाए


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी

Jaun Elia quotes 


इक लाल-क़िला था जो मियाँ ज़र्द पड़ गया 

अब रंग-रेज़ कौन से किस जा से लाइए 



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी



शाइर है आप यानी कि सस्ते लतीफ़-गो 

रिश्तों को दिल से रोइए सब को हँसाइए 




John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी

Jaun Elia Sher Shayari

क्या तकल्लुफ़ करें ये कहने में
जो भी ख़ुश है हम उस से जलते हैं



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी


कैसे कहें कि तुझ को भी हम से है वास्ता कोई

तू ने तो हम से आज तक कोई गिला नहीं किया


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी




अब कोई भी नहीं है कोई दिल-मोहल्ले में 

किस-किस गली में जाइए और गुल मचाइए 



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी



इक तौर-ए दह-सदी था जो बे-तौर हो गया 

अब जंतरी बजाइये तारीख़ गाइए


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी


काम की बात मैंने की ही नहीं

ये मेरा तौर-ए-ज़िंदगी ही नहीं



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी




कितने ऐश से रहते होंगे कितने इतराते होंगे

जाने कैसे लोग वो होंगे जो उस को भाते होंगे


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी




थूका है मैं ने ख़ून हमेशा मज़ाक़ में 

मेरा मज़ाक़ आप हमेशा उड़ाइए 


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी

जौन एलिया शायरी 

हरगिज़ मेरे हुज़ूर कभी आइए न आप 

और आइए अगर तो ख़ुदा बन के आइए 


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी


कितनी दिलकश हो तुम कितना दिल-जू हूँ मैं

क्या सितम है कि हम लोग मर जाएँगे



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी




कौन से शौक़ किस हवस का नहीं

दिल मेरी जान तेरे बस का नहीं


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी




जो ज़िंदगी बची है उसे मत गंवाइये 

बेहतर ये है कि आप मुझे भूल जाइए 



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी



हर आन इक जुदाई है ख़ुद अपने आप से 

हर आन का है ज़ख़्म जो हर आन खाइए 




John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी

Jaun Elia Urdu Shayari

थी मश्वरत की हम को बसाना है घर नया 
दिल ने कहा कि मेरे दर-ओ बाम ढाइए 


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी


ख़र्च चलेगा अब मेरा किस के हिसाब में भला

सब के लिए बहुत हूँ मैं अपने लिए ज़रा नहीं



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी




जमा हम ने किया है ग़म दिल में

इस का अब सूद खाए जाएँगे



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी




ज़िंदगी क्या है इक कहानी है 

ये कहानी नहीं सुनानी है 



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी

Jaun Elia Shayari Images Download

है ख़ुदा भी अजीब यानी जो 

न ज़मीनी न आसमानी है 


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी


है मेरे शौक़-ए-वस्ल को ये गिला 
उस का पहलू सरा-ए फ़ानी है 


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी


ज़िंदगी एक फ़न है लम्हों को

अपने अंदाज़ से गँवाने का



John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी




ज़िंदगी किस तरह बसर होगी

दिल नहीं लग रहा मोहब्बत में


John Elia Shayari | जौन एलिया शायरी


अपनी तामीर-ए जान ओ-दिल के लिए 
अपनी बुनियाद हम को ढानी है 

ये है लम्हों का एक शहर-ए-अज़ल 

यों की हर बात ना गहानी है 


चलिए ऐ जान-ए शाम आज तुम्हें 
शमाँ इक क़ब्र पर जलानी है 

जो गुज़ारी न जा सकी हम से

हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी है





'जौन' दुनिया की चाकरी कर के

तूने दिल की वो नौकरी क्या की

Jaun Elia Sher Shayari 

रंग की अपनी बात है वर्ना 
आख़िरश ख़ून भी तो पानी है 

इक अबस का वजूद है जिस से 

ज़िंदगी को मुराद पानी है 


शाम है और सहन में दिल के 
इक अजब हुज़न-ए आसमानी है

नया इक रिश्ता पैदा क्यूँ करें हम

बिछड़ना है तो झगड़ा क्यूँ करें हम





नहीं दुनिया को जब परवाह हमारी

तो फिर दुनिया की परवाह क्यूँ करें हम


इक हुनर है जो कर गया हूँ मैं 
सब के दिल से उतर गया हूँ मैं 
Jaun Elia Ghazal Shayari
कैसे अपनी हँसी को ज़ब्त करूँ 

सुन रहा हूँ कि घर गया हूँ मैं 


क्या बताऊँ कि मर नहीं पाता 
जीते-जी जब से मर गया हूँ मैं 

अब है बस अपना सामना दर पेश 
हर किसी से गुज़र गया हूँ मैं 

वही नाज़-ओ-अदा वही ग़म्ज़े 
सर ब सर आप पर गया हूँ मैं 

अजब इल्ज़ाम हूँ ज़माने का 
कि यहाँ सब के सर गया हूँ मैं 

कभी ख़ुद तक पहुँच नहीं पाया 
जब कि वाँ उम्र भर गया हूँ मैं 

तुम से जानाँ मिला हूँ जिस दिन से 
बे तरह ख़ुद से डर गया हूँ मैं 

कू-ए-जानाँ में शोर बरपा है 
कि अचानक सुधर गया हूँ मैं 
Jaun Elia ghazal
मैं भी बहुत अजीब हूं इतना अजीब हूं कि बस

ख़ुद को तबाह कर लिया और मलाल भी नहीं


Jaun Elia Status 




तो दोस्तों ये थी कुछ Jaun Elia Shayari अगर पसंद आये तो शेयर जरूर करना और कमेंट जरूर करना

और शायरी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे..  



Post a Comment

0 Comments